पहाड़ का किताब ऋंखला: 3 (पंडितो का पंडित: नैन सिंह रावत की जीवन गाथा)

0
288
नैन सिंह रावत

Book Name: पंडितो का पंडित: नैन सिंह रावत की जीवन गाथा

Author: शेखर पाठक

Year Published: 2009 A.D.

03Click to Download This Book

किताब डाउनलोड करने में कोई समस्या हो तो कमेंट बॉक्स में अपना ईमेल आईडी लिखें

शेखर पाठक द्वारा लिखित, मात्र 191 पृष्ठ की यह छोटी सी किताबपंडितो का पंडित: नैन सिंह रावत की जीवन गाथावर्ष 2009 में पहली बार प्रकाशित हुई। 

माना जाता है कि नैन सिंह रावत (21 अक्टूबर 1830 – 1 फ़रवरी 1882)) पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने तिब्बत का पहला सटीक मानचित्र तैयार किया था वहीं शेखर पाठक को नैन सिंह रावत को राष्ट्रीय पटल पर लाने का श्रेय जाता है। इस किताब को लिखने के लिए शेखर पाठक जी, नैन सिंह जी द्वारा लिखित एक किताब (अखसंय दर्पण), डायरी और पत्रों के साथ साथ रॉयल जॉग्रफिकल सोसाइटी, लंदन द्वारा प्रकाशित तीन रिपोर्ट का इस्तेमाल करते हैं। नैन सिंह जी द्वारा लिखित एक किताब, और तीन डायरी, आज भी देहरादून (सर्वे ओफ़ इंडिया), और दिल्ली (नैशनल आर्कायव) में रखा हुआ है। नैन सिंह द्वारा लिखी चौथी डायरी आज तक नहीं मिल पायी है। 

इस किताब में एक पहाड़ी घुम्मकड (शेखर पाठक) द्वारा दूसरे पहाड़ी घुम्मकड (नैन सिंह रावत) के बारे में लिखा यात्रा वृतांत तो बहुत आसानी से मिल जाएगा पर एक इतिहासकार को ढूँढना थोड़ा मुश्किल होगा। यानी कि इस किताब में नैन सिंह रावत का ऐतिहासिक विश्लेषण का पक्ष थोड़ा कमजोर है। इस किताब में आपको नैन सिंह से सम्बंधित लगभग सभी जानकरियाँ मिलेगी लेकिन उसका विश्लेषण लेखक आपके ऊपर छोड़ देते है।

नैन सिंह एक घुमक्कड़ और अन्वेषक के साथ साथ उम्दा समाजशास्त्री भी थे लेकिन उनके जीवन के इस पक्ष के बारे में किताब आपको सिर्फ़ छूने तक का अहसास करवा पता है। नैन सिंह द्वारा नेपाल और तिब्बत समाज में महिलाओं, जाति और धर्म आदि पक्षों का जो वर्णन करते हैं उसका विस्तार से अध्यन करने के लिए आपको नैन सिंह जी का अरिजिनल लेख पढ़ने होंगे।

ये भी पढ़ें: नैन सिंह रावत: पूर्वजों का नाम से उभरता पहाड़ का इतिहास

इस किताब के प्रकाशित होने से पहले भी शेखर पाठक और उनकी पत्नी उमा भट्ट ने समग्र रूप से नैन सिंह रावत पर वर्ष में एक किताब प्रकाशित कर चुके थे। 636 पृष्ठ का ये पुस्तक जिसका शीर्षक हैएशिया की पीठ परनैन सिंह रावत के जीवन, और यात्रा वृतांत, कहीं अधिक विस्तृत विवरण पर महँगी भी है। इसकी क़ीमत एक हज़ार है जिसे आपको pahad.org से मँगवाना पड़ेगा।

अगर आपके पास 200-400 पृष्ठ की किताब पढ़ने का समय नहीं है तो शेखर पाठक जी ने एकनामिक एंड पोलिटिकल वीक्ली पत्रिका में पहाड़ों के तीन घुमक्कडों (नैन सिंह रावत, राहुल संकृत्ययन और प्रणवनंद के संक्षेप विवरण भी प्रकाशित किया है पर इसके लिए भी आपको कुछ पैसे खर्च करने पड़ेंगे और ये विवरण सिर्फ़ कैलासमानसरोवर क्षेत्र तक ही सीमित है।मात्र सौ रुपए की यह किताब सस्ती है और शायद इसी कारण से ये आपको अमेजन पर मिलेगा और ही फ्लिपकार्ट पर। इस किताब को आप हमारे वेब्सायट (HuntTheHaunted.com)के अलावा archive.org से भी मुफ़्त में डाउनलोड कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here