HomeBrand BihariJayaprakash Narayan (जेपी) जयंती: 2022 बनाम 2023 और नीतीश कुमार बनाम भाजपा

Jayaprakash Narayan (जेपी) जयंती: 2022 बनाम 2023 और नीतीश कुमार बनाम भाजपा

11 अक्तूबर 2022, Jayaprakash Narayan जयंती दिवस, 8 अक्तूबर 2022 Jayaprakash Narayan का पुण्यतिथि। याद कीजिए पिछले साल 2022 की ये दो तारीख़ें, भाजपा और JDU में आपा-धापी लगी हुई थी कि कौन Jayaprakash Narayan का असली वारिस है। अमित शाह से लेकर योगी आदित्यनाथ 11 अक्तूबर को Jayaprakash Narayan के पैत्रिक गाँव सिताब दियारा पहुँचे हुए थे, JP जयंती मनाने।

JP (Jayaprakash Narayan) जयंती BJP बनाम Nitish Kumar ? | News Hunters |

उसके तीन दिन पहले 8 अक्तूबर 2022 को JP के पुण्य तिथि पर नीतीश कुमार सिताब दियारा जाकर घघर नदी पर एक पूल के निर्माण की घोषणा कर चुके थे और साथ में JP के गाँव में एक हॉस्पिटल के निर्माण की भी घोषणा कर दिए थे। और उसके बाद 11 अक्तूबर को नीतीश कुमार नागालैंड में जाकर नागालैंड के लोगों को JP के नागालैंड शांति मिशन का ज्ञान दे रहे थे। मतलब JP और JP के वचन बिहार से लेकर नागालैंड तक गूंज रहे थे। पिछले साल, 2022 में। 

लेकिन साल 2023 में न तो कोई सिताब दियारा गया और न ही कोई Jayaprakash Narayan को याद करने दिल्ली से आया। राजनीति में सब कुछ रीऐक्शन में ही होता है। पिछले साल भाजपा सिताब दियारा में मजमा लगा रही थी, तो JDU भी शुरू हो गई, इस साल किसी ने नाटक शुरू नहीं किया तो अमित शाह भी दिल्ली में आराम फ़रमा रहे हैं और नीतीश कुमार भी पटना में JP की प्रतिमा पर फूल चढ़ा के आराम कर रहे हैं।

Jayaprakash Narayan और Manipur :

कितना अच्छा मौक़ा था जब इस बार, नीतीश कुमार मणिपुर जाते, मणिपुर के लोगों को बताते कि JP ने मणिपुर समस्या पर आज से लगभग पचास साल पहले क्या कहा था? नीतीश कुमार मणिपुर के लोगों को बताते कि काश भारत सरकार उस समय JP के मणिपुर समस्या पर दिए गए सुझावों को स्वीकार कर लेती तो आज मणिपुर समस्या इतना विकराल नहीं होता, काश नीतीश कुमार मणिपुर की धरती से मोदी सरकार से अपील करते कि मोदी सरकार मणिपुर समस्या पर आज भी Jayaprakash Narayan के सुझावों को समझे और उसपे अमल करे तो मणिपुर को जलने से रोका जा सकता है।

मणिपुर समस्या पर JP के विचारों और सुझावों पर हमने एक अलग से विडीओ बनया है जिसका लिंक इस विडीओ के डिस्क्रिप्शन बॉक्स में आपको मिल जाएगा उसे भी देखिए। लेकिन आज न्यूज़ हंटर्ज़ पर बात सिर्फ़ उस राजनीति की जिससे प्रेरित होकर हमारे नेता JP को याद करते हैं। जब राजनीति, राजनीतिक फ़ायदे और राजनीतिक लड़ाई की होती है तो JP सिताब दियारा से लेकर नागालैंड तक याद किए जाते है और जब इन तथाकथित JP के अनुयायियों को राजनीति, राजनीतिक फ़ायदे और राजनीतिक लड़ाई नहीं मिलती है तो JP की पुण्यतिथि पटना के JP मूर्ति, फ़ेस्बुक, ट्विटर पोस्ट तक सीमित हो जाती हैं। 

इसे भी पढ़े: जयप्रकाश नारायण (JP) के जीवन से जुड़ा 10 अफ़वाह

बिहार में तो इस साल JP का जन्मदिन पटना और फ़ेस्बुक, ट्विटर और इन्स्टग्रैम पर ही मनाते रह गया और उधर सारा मजमा उत्तर प्रदेश लूट के चला गया। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जब सपा नेता अखिलेश यादव और उनके समर्थक जयप्रकाश नारायण की जयंती मनाने के लिए Jayprakash Narayan International Centre पहुँचे तो उन्हें प्रशासन ने रोक दिया। इसके बाद अखिलेश यादव बंद परिसर के गेट के ऊपर से कूदकर अंदर चले गए और जाकर जयप्रकाश नारायण की प्रतिमा को माला पहना दिया। इस ड्रामे के सहारे साल 2023 में JP के जन्मदिवस पर अखिलेश यादव आज हर तरह के मीडिया में छाए हुए हैं। 

इधर बिहार में बिहार की राजनीति के कान्हा तेज प्रताप यादव अचानक Jayaprakash Narayan के गाँव सिताब दियारा पहुँच गए और क्षेत्रीय मीडिया में थोड़ा जगह बना लिए। वैसे तो JP का जन्म स्थली सिताब दियारा है ही नहीं बल्कि सिकरौल लख है, सिताब दियारा तो सिर्फ़ JP का पैत्रिक गाँव है। लेकिन सब लोग सिताब दियारा को ही JP का जन्मस्थली मानकर सिताब दियारा पहुँचते है।

Hunt The Haunted Logo,
WhatsApp Group Of News Hunters: (यहाँ क्लिक करें) https://chat.whatsapp.com/DTg25NqidKE… 
Facebook Page of News Hunters: (यहाँ क्लिक करें) https://www.facebook.com/newshunterss/ 
Tweeter of News Hunters: (यहाँ क्लिक करें) https://twitter.com/NewsHunterssss 
News Hunters YouTube Channel: (यहाँ क्लिक करें)
 https://www.youtube.com/@NewsHunters_
Sweety Tindde
Sweety Tinddehttp://huntthehaunted.com
Sweety Tindde works with Azim Premji Foundation as a 'Resource Person' in Srinagar Garhwal.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Current Affairs